अनोखा होना अनोखा है

एक लड़की थी..

सपना बनना उसे लीडर था;

कोई कुछ भी कहे फर्क न उसे पड़ता था!!

दुनियादारी की समझ थी न थी,

पर लोगो का विश्वास जीतना चुटकियों का खेल था!!

प्यार अपने वतन से, हर एक जीव सखा था…

कौन समझाए अब उसे, ना हर कोई अपना था!!

सभी को समझाना बाएँ हाथ का खेल था,

दुनिया में उससे ज्यादा कंफ्यूज शायद ही कोई था!!

हर किसी से प्यार से बात करना, मिलने पर गले लगाना

उसका सबसे प्यारा तरीका था…

काश, वो लड़का होती,

ये हर लड़की का सपना था…

जितनी प्यारी उसकी भूरी आँखें,

उतना खूब था उसका हृदय!

सोना भले ही प्यार का उसका..,

पर उससे खूब शायद ही कोई था!!

Dedicated to shruti…my bestie n sis💙

Leave a Reply